ये दरिया-ए-इश्क है कदम जरा सोच के रखना,
इस में उतर कर किसी को किनारा नहीं मिला।
Yeh Dariya-e-Ishq Hai Kadam Jara Soch Ke Rakhna,
Iss Mein Utar Kar Kisi Ko Kinaara Nahi Milaa.