वो अच्छे हैं तो बेहतर,
बुरे हैं तो भी कबूल,
मिजाज़-ए-इश्क में ऐब-ओ-हुनर
देखे नहीं जाते।
Wo Achhe Hain To Behtar Hain
Bure Hain To Bhi Qabool,
Mijaaz-e-Ishq Mein Aib-o-Hunar
Dekhe Nahi Jate.