लाजिम नहीं कि उस को भी मेरा ख्याल हो,
मेरा जो हाल है वही उसका भी हाल हो,
कोई खबर ख़ुशी की कहीं से मिले मुनीर,
इस रोज-ओ-शब में ऐसा भी इक दिन कमाल हो।

Laazim Nahin Ke Usko Bhi Mera Khayal Ho,
Mera Jo Haal Hai Wohi Uss Ka Bhi Haal Ho,
Koyi Khabar Khushi Ki Kahin Se Mile Munir,
Iss Roz-O-Shab Mein Aisa Bhi Ik Din Kamaal Ho.