Khvaahish-E-Zindagi Bas
Itani Si Hai Ab Meri,
Ki Saath Tera Ho Aur
Zindagi Kabhi Khatm Na Ho.

ख्वाहिश-ए-ज़िंदगी बस
इतनी सी है अब मेरी,
कि साथ तेरा हो और
ज़िंदगी कभी खत्म न हो।