इंतजार, इज़हार, इबादत सब तो किया मैंने,
और कैसे बताऊँ कि प्यार की गहराई क्या है?
Intezar, Izhaar, Ibaadat Sab To Kiya Maine,
Aur Kaise Bataaun Ke Pyar Ki Gehrayi Kya Hai?