पहले तो अपने दिल की रज़ा जान जाइए,
फिर जो निगाह-ए-यार कहे मान जाइए,
शायद हुजूर से कोई निस्बत हमें भी हो,
आँखों में झाँककर हमें पहचान जाइए।

Pehle To Apne Dil Ki Razaa Jaan Jaiye,
Fir Jo Nigaah-e-Yaar Kahe Maan Jaiye,
Shayad Huzoor Se Koi Nisbat Humein Bhi Ho,
Aankhon Mein Jhaank Kar Humein Pehchan Jaiye.